Friday, 20 April 2012

अपना घर अपना होता है


 अपना घर अपना होता है

अपना  घर   अपना  होता है,
ये जीवन का  सपना होता है।
बड़े शहर  में घर  का सपना,
केवल  इक  सपना  होता है।
बड़े   भाग्य  होते  हैं  उनके,
जिनका घर अपना  होता है।
आवक-जावक गुणा-भाग में,
जीवन भर खपना होता  है।
कुछ  सपने  आँखों  में  होते,
कुछ  पूरे  कुछ   आधे  होते।
कहीं  विवशता मजबूरी, तो 
कहीं  प्यार  के  वादे   होते।
बड़े प्यार से तिनका-तिनका,
दीवारें    चिनना   होता है।
जीवन  भर  की   आपाधापी,
इक  छोटा सा  घर  दे पाती।
कभी-कभी ऐसी कोशिश भी,
आधी  की  आधी  रह जाती।
दो   पैसे   में   एक    बचाना,
आधे पेट कभी  सोना होता है।
जिस घर को हम कहते अपना,
सच  में  तो  होता  है  सपना।
मिथ्या  जग, मिथ्या  है माया,
कुछ भी नहीं  जगत में अपना।
छोड़   झमेला   चौरासी   का,
राम   नाम   जपना  होता है। 


आनन्द विश्वास

8 comments:

  1. जहाँ मन खुशियों के सपने देखता है .... अपने घर जैसा कुछ नहीं होता

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन भाव संयोजन लिए उत्‍कृष्‍ट प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  4. बड़े शहर में घर का सपना,
    केवल इक सपना होता है।
    बड़े भाग्य होते हैं उनके,
    जिनका घर अपना होता है।

    जो सुख छज्जू के चौबारे ..
    सच कहीं भी जाओ लेकिन जो सुख अपने घर मिलता है वह और कहीं नहीं..
    घर में महत्ता बतलाती सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  5. जिस घर को हम कहते अपना,

    सच में तो होता है सपना।

    मिथ्या जग, मिथ्या है माया,

    कुछ भी नहीं जगत में अपना।

    ADHYATMIK DARSHAN SE PARIPOORN BEHAD PRABHAAVSHALI RACHANA ...SADAR BADHAI.

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
    आपकी प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका सहज स्नेह ही तो उर्मियों में
      ऊर्जा और प्रेरणा प्रदान करता है।
      कोटि-कोटि धन्यवाद।

      आनन्द विश्वास।

      Delete
  7. वाह! बहुत सुन्दर पंक्तियाँ! ख़ूबसूरत प्रस्तुती!

    ReplyDelete