Monday, 6 June 2016

ऊँचे-ऊँचे लोगों के अब...

ऊँचे-ऊँचे   लोगों   के    अब,
घटिया सुनो वयान, रामजी।
सत्य न्यायप्रिय जनता के अब,
खटिया पर  हैं  प्राण, रामजी।

साधू  संतों   वाली   वाणी,
सुनने से डरता  अब प्राणी।
विषधर से भी ज्यादा विषमय,
लेकर  फिरते   ज्ञान,  रामजी।

बक-बक करते सारे दिनभर,
दोष मढ़े  दूजों के  सिर पर।
चौथा खम्बा  धरे  जेब में,
डोलें  ये  श्रीमान, रामजी।

गोली की  बोली  ये बोलें,
पैसे  के  पीछे  ये  हो  लें।
गड़-बड़झाला  करने  वाले,
चलते सीना तान, रामजी।

जोड़-तोड़  करने  वालों ने,
तोड़-फोड़  करने  वालों ने।
आग लगा दी दुनियाँ भर को,
व्याकुल  वेद-कुरान, रामजी।

ऐसे   में   कैसे   हम  जी  लें,
व्याकुल-मन कैसे लव सीं लें।
सन्नाटा   है    गली-गली   में,
कुछ तो करो निदान, रामजी।  
...आनन्द विश्वास


No comments:

Post a Comment